Bharat News, India News
Haryana phatahabad

परिवार पहचान पत्र में आय को लेकर उपायुक्त ने ली अधिकारियों की बैठक

फतेहाबाद,
परिवार पहचान पत्र में आय सत्यापन का कार्य जल्द करने के निर्देश देते हुए उपायुक्त महावीर कौशिक ने इस कार्य में पारदर्शिता रखने को कहा है। जिला में 5474 ऐसे परिवार है, जिनकी आय का सत्यापन किया जाना है। इस कार्य के तहत 3 स्तर पर सत्यापन होगी। टीम लीड ने 5055 परिवारों का सत्यापन किया है। ऑपरेटर ने 4680 परिवार सत्यापित किए है। उपायुक्त ने कहा कि यह डिफरेंस एक सप्ताह में पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि तीसरे चरण में वॉलिंटियर, सोशल वर्कर और स्टूडेंट में से किसी एक को आय सत्यापन करवाना आवश्यक है। इसके लिए उन्होंने संबंधित बीडीपीओ से कहा कि जिन बूथों पर वॉलिंटियर नहीं है, उसकी सूची दें ताकि आय सत्यापन के काम को शत प्रतिशत पूरा किया जा सके।उपायुक्त महावीर कौशिक ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि अपने-अपने ब्लॉक से संबंधित परिवार पहचान पत्र की आय के सत्यापन का कार्य जल्द पूरा करें, इस विषय में किसी प्रकार की लापरवाही सहन नहीं की जाएगी। परिवार पहचान पत्र सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना है, इसलिए इस योजना के अंतर्गत जल्द से जल्द जिले के सभी नागरिकों के परिवार पहचान पत्र बनाए जाने बहुत जरुरी है। उन्होंने कहा कि परिवार पहचान पत्र एक ऐसी पहचान है, जिसके बनने के बाद अन्य आईडी की जरूरत नहीं रहेगी। नागरिक परिवार पहचान पत्र अनिवार्य रूप से बनवाएं ताकि उन्हें सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ मिल सके। परिवार पहचान पत्र हरियाणा राज्य में रहने वाले हर परिवार की पहचान है। इसमें परिवार की मौलिक जानकारी का संग्रह डिजिटल रूप में किया गया है। यह जानकारी परिवार द्वारा अपनी इच्छा से दी गई जानकारी से स्थापित की जाती है। इसके माध्यम से परिवार को सरकार द्वारा दी जाने वाले वे सभी लाभ, सेवाएं और जनकल्याण की योजनाओं के लाभ दिए जाएंगे, जिनका वह पात्र है। परिवार पहचान पत्र का मुख्य उद्देश्य हरियाणा राज्य में सभी परिवारों का एक प्रमाणिक सत्यापित और विश्वसनीय डेटाबेस तैयार करना है। जिला के नागरिकों से आह्वान करते हुए उपायुक्त ने कहा कि वे अपने परिवार पहचान पत्र को शीघ्र अपडेट करवाएं। परिवारों का डेटाबेस तैयार होने के बाद परिवारों को हर योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए अलग से आवेदन करने की आवश्यकता नहीं रहेगी। साथ ही सरकार योजनाओं के क्रियान्वयन को सरल और पारदर्शी बनाकर परिवारों को सीधे लाभ प्रदान करने में सक्षम बनेगी। परिवार पहचान पत्र का डेटाबेस प्रमाणित और सत्यापित होने के बाद लाभार्थी को सत्यापन के लिए कोई भी दस्तावेज जमा कराने की जरूरत नहीं रहेगी। इस पहचान पत्र के साथ सभी वर्तमान योजनाओं जैसे की छात्रवृत्ति, सब्सिडी और पेंशनर को जोड़ा जाएगा, ताकि संगति और विश्वसनीयता बनी रहे। इस मौके पर अतिरिक्त उपायुक्त डॉ. मुनीष नागपाल, डीआरओ प्रमोद चहल, डीईओ दयानंद सिहाग, डीआईओ सिकंदर, डीपीओ जितेन्द्र कालीरामणा, डीएसओ ओपी इंदौरा, अनुराग धारीवाल सहित पीपीपी के आय सत्यापन कार्य से जुड़े अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे।

Related posts

भारी मात्रा में अफीम, हेरोइन, चुरापोस्त,गांजा व नशीली दवाएं बरामद

ब्लॉक टास्क फोर्स की बैठक में एसडीएम ने कोविड-19 के टीकाकरण प्रोग्राम की समीक्षा की

राजेन्द्र शर्मा

फतेहाबाद पुलिस ने रेमडेसिविर इंजैक्शन मामले में सप्लायर के आरोप में विकास को किया गिरफ्तार

कोरोना के बढ़ते एक्टिव केसों की संख्या के मद्देनजर नागरिक सतर्क रहें : उपायुक्त

जिला में सार्वजनिक स्थानों पर होली का त्योहार मनाने पर रहेगी मनाही

डीएसपी ने ध्वजारोहण कर परेड का निरीक्षण किया

राजेन्द्र शर्मा

Leave a Comment

error: Content is protected !!