Tuesday, February 7, 2023
TechPAPA
HomeHaryanaराष्ट्रीय पोषण माह के तहत जिला में 30 सितंबर तक आयोजित होंगी...

राष्ट्रीय पोषण माह के तहत जिला में 30 सितंबर तक आयोजित होंगी विभिन्न गतिविधियां

फतेहाबाद,
लघु सचिवालय के सभागार में उपायुक्त महावीर कौशिक की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री के सुपोषित भारत (कुपोषण मुक्त भारत) की समीक्षा के लिए बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त ने कहा कि कुपोषण मुक्त भारत अभियान के दृष्टिकोण को सामने रखते हुए महिला एवं बाल विकास विभाग की ओर से 1 से 30 सितंबर तक चौथा राष्ट्रीय पोषण माह मनाया जाएगा। इस अभियान के तहत सामुदायिक भागीदारी पर विशेष फोकस रखा जाएगा ताकि हर नागरिक पौष्टिक आहार के महत्व को समझें। इस बार पोषण माह का थीम ( कुपोषण छोड़ पोषण की ओर-थामे क्षेत्रीय भोजन की डोर) रहेगा।उपायुक्त महावीर कौशिक ने कहा कि राष्ट्रीय पोषण माह 2021 के तहत 4 सप्ताह चार अलग-अलग थीम रहेंगी। उन्होंने कहा कि आहार में विविधता और पौष्टिकता को बढ़ाने के लिए बाजरा, दालें, बारहमासी और मौसमी स्थानीय सब्जियों, फलों आदि के उपयोग करने के बारे में नागरिकों जागरूक किया जाएगा। इन गतिविधियों को उत्साहपूर्वक आयोजित करने और राष्ट्रीय पोषण में बड़ी सामुदायिक भागीदारी को प्रोत्साहित करने के लिए महिला एवं बाल विकास के साथ-साथ अन्य विभाग भी इस कार्यक्रम के सहयोगी रहेंगे। इस अभियान में बच्चों, गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए भोजन के सही तरीके से पकाने व खाने के बारे में जानकारी दी जाएगी। कुपोषण के खिलाफ अभियान में सभी की भागीदारी सुनिश्चित की जाएगी तथा कोविड-19 प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए इन गतिविधियों को चलाया जाएगा। इस अभियान को जिला में सुचारू एवं सफल संचालन के लिए उपायुक्त ने संबंधित विभागों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।
इस अवसर पर जिला कार्यक्रम अधिकारी राजबाला ने बताया कि अभियान के तहत प्रथम सप्ताह में आंगनबाड़ी केन्द्रों, विद्यालयों, पंचायतों एवं अन्य सार्वजनिक भूमि आदि में उपलब्ध स्थानों पर पोषण वाटिका के रूप में पौधरोपण किया जाएगा। दूसरे सप्ताह में गर्भवती महिलाओं, बच्चों और किशोरियों जैसे विभिन्न समूहों के लिए आयुष और योग कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। तीसरे सप्ताह में आईईसी सामग्री के साथ आंगनबाड़ी लाभार्थियों को पोषण किट वितरित की जाएंगी। इसी प्रकार चौथा सप्ताह में एसएएम की पहचान और उनके लिए पौष्टिक भोजन के वितरण के लिए अभियान चलाया जाएगा। चौथे सप्ताह के दौरान एसएम बच्चों की पहचान करने से पहले आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा और एएनएम द्वारा बच्चों (5 वर्ष तक की आयु तक) के लिए लंबाई/ऊंचाई और वजन मापन अभियान के लिए घर-घर जाकर सर्वेक्षण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार द्वारा चलाई जा रही प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत जिला में एक से सात सितंबर तक मातृ वंदना सप्ताह मनाया जाएगा। इस सप्ताह के दौरान प्रतिदिन अलग-अलग गतिविधियां आयोजित की जाएंगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular