Editors’ Choice

दिल्ली के "वायुदूत'रखेंगे राजधानी के वायु प्रदूषण निगरानी तंत्र पर नज़र

दिल्ली सरकार की पहल दिल्ली में बढ़ते वायु प्रदूषण के स्तर को देखते हुए इस बार दिवाली से पहले फिर से ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (GRAP) लागू हो गया है।इस बीच प्रदूषण को कम करने में सरकारी कार्य योजना के कार्यान्वयन में स्वच्छ वायु मानदंडों और नियमों के उल्लंघन पर नागरिक रिपोर्टिंग को प्रोत्साहित करने के साथ-साथ इलेक्ट्रिक वाहनों, सार्वजनिक परिवहन और अपशिष्ट प्रबंधन जैसे समाधानों को अपनाने को बढ़ावा

कविता : सुधा मिश्र

समसामयिक मुद्दा पर कविता घर से बाहर निकलसपनों को अपने मारकरवक्त ये विकराल हैभविष्य का सवाल हैनौकरी को सोच मतकिस्मत को कोस मतजाना तुझे है उस डगरबिना किए अगर मगरहुक्काम का है हुकमकहना भी मत कि है जुलुमबैठा लो अपने जेहनरख जिंदगी इनको रेहनचुपचाप करता रह सहनमरेंगे तुमको झोंक करअग्निपथ, अग्निपथ अग्निपथ कोशिशों में तू गलासांचों में बस तू जा ढ़लान सोच न विचार करदिया है जो स्वीकार करअंध भक्त

सरकार की शपथ…अग्निपथ अग्निपथ

बृजेश कुमारवरिष्ठ पत्रकार केंद्र सरकार नें जैसे ही अग्निपथ योजना की घोषणा की कि अब सेना में भर्ती 17 से 21 साल के युवाओं की की जायेगी।8 साल से सोया हुआ युवा जैसे जाग गया। सीधे सड़को पर उतर गये । अपने स्वभाव वश तत्क्षण परिणाम भी आने लगे। कई बसें फूंक दी गयी।कई ट्रेने जला दी गयी ।सरकार पूरी कोशिश में लगी रही है कि मामले को संभाला जाये।

पर्यावरण ही हमारे जीवन का आधार स्तंभ

हमारा लगाया हुआ एक वृक्ष, सैकड़ों लोगों को ऑक्सीजन दे सकता है … संजय राय शेरपुरिया हर साल 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है।  पर्यावरण आज के समय का एक प्रज्वलित विषय है, जिसका असर  हर मनुष्य पर , मनुष्य की हर गतिविधि पर , और मनुष्य के हर पहलु पर पड़ता  है। पर्यावरण  हमारे जीवन के एक अभिन्न अंग  है।पर्यावरण और मानव जाति का सम्बन्ध काफी

बुद्ध पूर्णिमा विशेष

भगवान बुध के जन्म दिवस को बुद्ध पूर्णिमा के रुप में मनाए जाने की परंपरा प्राचीन काल से ही चली आ रही है. इस वर्ष बुध पूर्णिमा 16 मई 2022 को मनाई जाएगी. बुद्ध पूर्णिमा को “बुद्ध जयन्ती” और “वैसाक” और “वैशाख पूर्णिमा” नामों से भी पुकारा जाता है। बुधपूर्णिमा के शुभ अवसर पर भूमि, भवन और वाहन की खरीद के साथ ही पदभार ग्रहण करना बहुत ही शुभ माना

खराब प्रबन्‍धन से पैदा हुआ बिजली संकट: विशेषज्ञ

दिल्ली। भारत इस वक्‍त ग्‍लोबल वार्मिंग की जबर्दस्‍त मार सहने को मजबूर है। भीषण गर्मी के कारण तापमान बढ़ने से बिजली की खपत में वृद्धि के फलस्‍वरूप देश के विभिन्‍न राज्‍यों में बिजली संकट भी उत्‍पन्‍न हो गया है। इसे कोयले की कमी से जोड़कर देखा जा रहा है, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि बिजली का संकट कोयले की कमी से नहीं बल्कि खराब प्रबधंन के कारण उत्‍पन्‍न हुआ

अन्याय का संहार कर न्याय का राज सृजन करने वाले हैं 'भगवान परशुराम'

शस्त्र और शास्त्र दोनों में पारंगत भगवान विष्णु के छठवें अवतार महर्षि भगवान परशुराम का जन्महिंदू पंचांग के अनुसार वैशाख मास की तृतीया तिथि यानी कि अक्षय तृतीया के दिन हुआ था। देश-दुनिया में सनातन धर्म के अनुयायियों के द्वारा इस पावन दिन को बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। भगवान परशुराम का जन्म प्रसिद्ध महर्षि जमदग्नि और माता रेणुका के यहां हुआ था। सनातन धर्म के विभिन्न धर्म

शिक्षा व्यवस्था पर सवाल- पेपर लीक

आलेख : बृजेश कुमार- वरिष्ठ पत्रकार पिछले दिनों यूपी बोर्ड का अंग्रेजी पेपर के आउट होने की खबर नें शिक्षा व्यवस्था की पोल खोल दी । सरकार भले ही नकल पर नकेल लगानें का पूरा इंतजाम कर रही है।परन्तु नकल माफिया सक्रीय तो हैं ही ,परन्तु स्थिति तब और भी बिगड़ गयी जब पेपर आउट होने की खबर मीडिया तक पेपर शुरू होने के कई घंटो पहले ही पहुँच गयी।जिससे

 40 देशों के बैंक सूचीबद्ध, भारत का एक भी बैंक नहीं

संयुक्त राष्ट्र द्वारा आयोजित नेट-ज़ीरो बैंकिंग एलायंस में 40 देशों के बैंकों को किया गया सदस्य के रूप में सूचीबद्ध, मगर सूची में नहीं है एक भी भारतीय बैंक जलवायु परिवर्तन का हमारे ऊपर व्यापक असर होता है। और यह नकारात्मक असर सिर्फ शारीरिक नहीं, बल्कि सामाजिक और आर्थिक भी होता है। भारत जैसे विकासशील देश में एक आम नागरिक के लिए नकारात्मक आर्थिक असर झेलना आसान नहीं होता। इस असर के दर्द को

'जनता जब भूखी होती है तो बड़े बड़े सिंहासन खा जाती है'

बृजेश कुमार (वरिष्ठ पत्रकार) बेलगाम बेरोजगारी बढ़ती महगाई और अर्थव्यवस्था की गिरती हालत भी अब सरकार से सवाल करने लगें हैं कि साहब हमको और कितना गिराओगे। अब चलने की स्थिति भी नहीं रही हमारे हालात रेंगने जैसे हो गये हैं। लेकिन फिर भी आपके चेहरे पर शिकन नहीं है। आखिर कब तक अपने आपको कोरोना महामारी हिंदू मुस्लिम की आड़ में छुपकर वाणी के तीर चलाओगे । आखिर विराम